गुलझार Gulzar

 गुलझार Gulzar गुलझार Gulzar : “…खिड़की पिछवाड़े को खुलती तो नज़र आता था वो अमलताश का इक पेड़, ज़रा दूर, अकेला-सा खड़ा

Read more